मनकामेश्वर मठ की ओर से फूंका गया आतंकवाद का पुतला

0
619
  • अमरनाथ के शहीदों की आत्मा की शान्ति के लिए हुआ शान्ति हवन, मौन 

लखनऊ, 11 जुलाई। अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले के विरोध में मनकामेश्वर मठ मंदिर की ओर से मंगलवार को डालीगंज मठ मंदिर परिसर में श्रीमहंत देव्यागिरि ने शान्ति हवन किया। इसके साथ ही आक्रोशित विभिन्न समुदाय के लोगों ने आतंकवाद का पुतला मंदिर परिसर के बाहर फूंका। इस विरोध प्रदर्शन में मुस्लिम समाज के लोगों ने भी आतंकवाद के खिलाफ आवाज उठायी। शौकत अली, आरिफ खान, नवाब गाजी, हाफिज सैय्यद मुहम्मद वसी, महबूब अंसारी ने इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। प्रदर्शनकारियों ने आतंकवाद मुर्दाबाद और भारत माता की जय जैसे नारे लगाकर आक्रोश जताया। मनकामेश्वर मठ मंदिर जहां भारत माता की चौकी स्थापित है, वहां मंगलवार को श्रीमहंत देव्या गिरि जी महाराज ने बताया कि 10 जुलाई को सावन के पहले सोमवार के पवित्र अवसर पर जिस तरह आतंकवादियों ने कायरतापूर्वक अमरनाथ के श्रद्धालुओं पर हमला किया, वह उसकी घोर निंदा करती हैं। इस आतंकी घटना में बेगुनाह सात श्रद्धालू शहीद हुए। उन्होंने कहा कि यह सीधे-सीधे देश की अखंडता पर हमला है। इसका केंद्र सरकार की ओर से पुरजोर जवाब दिया जाना चाहिए। एक ओर तीन आतंकवादियों ने अर्द्धसैनिक बल की छावनी पर हमला किया। फिर रात 8:20 बजे खानाबल के पास यात्रियों से भरी बस पर अंधाधुंध गोलाबारी कर दी। गुजरात के बनासकांठा जिला की उस बस पर हुए इस घिनौने हमले में 32 श्रद्धालू गंभीर रूप से जख्मी हुए। उस बस में 56 श्रद्धालू  थे जो गुजरात, दमन दीव और महाराष्ट्र के थे। यह और चिंतनीय है कि जिन सात श्रद्धालुओं की मृत्यु हुयी, उनमें 5 स्त्रियां थी। सात शहीदों में पांच गुजरात के और शेष दो महाराष्ट्र के थे। जम्मू और कश्मीर पुलिस के अनुसार हमले में पाकिस्तानी इस्लामी आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का हाथ हैं।

मनकामेश्वर मठ मंदिर में हुए शान्ति हवन में उपस्थित भक्तों ने शहीद श्रद्धालुओं की आत्मा की शान्ति के लिए आहूतियां दीं। हवन के बाद शहीद श्रद्धालुओं की आत्मा की शन्ति के लिए दो मिनट का मौन भी रखा गया। इसके बाद मंदिर परिसर के बाहर आतंकवाद के खात्मे के लिए आतंकवाद के पुतले का दहन किया गया। इस मौके पर सर्वेश त्रिवेदी, एडवोकेट सत्येन्द्र सिंह, जितेन्द्र राजपूत, संजय सोनकर, अमित गुप्ता, जगदीश गुप्ता, अमित विश्वकर्मा, उपमा पाण्डेय, पूजा, शिवानी, नम्रता मिश्रा समेत मंदिर के सेवादार मौजूद रहे।