गरीब मां ने दो माह की बेटी को स्टेशन में छोड़ा, आरपीएफ और चाइल्ड लाइन ने दिया संरक्षण

0
440

रामनगर, बाराबंकी, 23 जनवरी 2022: थानाक्षेत्र रामनगर के ग्राम कटका निवासी एक मजदूर की पत्नी अपनी दो माह की बेटी और डेढ़ साल के बेटे के साथ उस समय घर से मायके के लिए चल दी। जब मजदूर घर से दूर मजदूरी करने चला गया। मजदूर की पत्नी अपने नौनिहालों को लेकर बुढ़वल रेलवे स्टेशन पहुंची और दो माह की नवजात को स्टेशन के प्लेटफार्म पर लावारिस छोड़कर बरौनी एक्सप्रेस से सवार होकर मायके बिहार रवाना हो गई।

प्लेटफॉर्म पर जब नवजात के रोने की आवाज आई तो आरपीएफ पोस्ट कमांडर आलोक कुमार ने बालिका को संरक्षण में लेकर माता की खोजबीन शुरू की। इधर कुछ प्रत्यक्षदर्शियों के द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर बरौनी एक्सप्रेस में माता की खोज की गई तब तक ट्रेन गोण्डा पहुंच गई। गोण्डा आरपीएफ की मदद से बालिका की माता को ट्रेन से उतारकर वापस बुढ़वल स्टेशन लाया गया और उसके पति को सूचना दी गई। सूचना पर पहुंचे पति रामधीरज ने अपने बच्चों व पत्नी की पहचान किया।

वहीं लावारिस शिशु की सूचना चाइल्ड लाइन 1098 पर हुई तो चाइल्ड लाइन के निदेशक रत्नेश कुमार, सदस्य प्रदीप कुमार व जीनत बेबी ने शिशु को अपने संरक्षण में लेकर बाल कल्याण समिति/न्यायपीठ के समक्ष उपस्थित कराया। समिति/ न्यायपीठ ने शिशु को माता पिता के संरक्षण में सुपुर्द कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here