उप्र कांग्रेस चिकित्सा प्रकेाष्ठ की कार्यकारिणी बैठक, इलेक्ट्रो होम्योपैथी को मान्यता दिलाने की मांग

0
979
जल प्रदूषण, जेनेरिक दवाइयों के प्रयोग, मरीजों से मतभेद पर चिकित्सकों की सुरक्षा के मुद्दे पर हुई चर्चा 
लखनऊ 27 जुलाई। उप्र कांग्रेस चिकित्सा प्रकेाष्ठ की कार्यकारिणी की आवश्यक बैठक आज यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रकोष्ठ के चेयरमैन डा. जियाराम वर्मा की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई जिसमें उप्र कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं विभाग/प्रकेाष्ठ प्रभारी श्री दीपक सिंह सदस्य विधान परिषद मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। यह जानकारी देते हुए चिकित्सा प्रकेाष्ठ के प्रान्तीय चेयरमैन डा. जियाराम वर्मा ने बताया कि बैठक में कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने एवं समाजसेवा के बारे में विस्तार से चर्चा हुई।
बैठक में डा. अशोक सिंह आजमगढ़ ने जल प्रदूषण, जेनेरिक दवाइयों के प्रयोग तथा मरीजों से मतभेद पर चिकित्सकों की सुरक्षा के मुद्दे पर विचार व्यक्त किया।
डॉ. पीके त्यागी संयोजक चिकित्सा प्रकेाष्ठ ने कहा कि उप्र कांग्रेस ने इलेक्ट्रो होम्योपैथी की मान्यता दिलाने पर बल दिया संसद में अल्टरनेटिव बिल मेडिसिल बिल 2005 को पारित कराने पर बल दिया ताकि करोड़ों युवाओं को रेाजी रोटी मिल सके तथा ग्रामीण समाज की विशेष तौर से सेवा कर सकें।
डा. एसके पाठक ने देवरिया जिले में इन्सेफेलाइटिस बीमारी फैलने पर रोकथाम के बारे में चर्चा की। डा. अजय शुक्ला ने मच्छरजनित बीमारियों डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनियां आदि की रोकथाम के बारे में बताया।
डा. मुजम्मिल ने डायबिटीज, लीवर आदि की बीमारियों के बारे में जागरूकता पर बल दिया। इसके अतिरिक्त डा. इरफान, डा. एसके कुशवाहा आदि ने अपने विचार व्यक्त किये।
बैठक में चिकित्सा प्रकोष्ठ के चेयरमैन डा. जियाराम वर्मा जी ने समापन भाषण में सबको धन्यवाद दिया तथा सभी चिकित्सा प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों से आग्रह किया कि वह ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा शिविरों के माध्यम से जनसेवा के कार्यक्रम में निरन्तर जुटे रहें।