राजा भैया फरवरी में पटना के गांधी मैदान में करेंगे रैली को संबोधित: रविंद्र

0
  • राष्‍ट्रीय समान अधिकार यात्रा समिति का राज्‍य स्‍तरीय कार्यकर्ता सम्‍मेलन 21 जनवरी को
  • राष्‍ट्रीय समान अधिकार यात्रा 31 जिलों में संपन्‍न, 25 फरवरी को पटना में होगी महारैली

पटना, 17 जनवरी 2019: गांधी जयंती के अवसर पर 2 अक्‍टूबर 2018 में गांधी संग्राहलय से,चंपारण से ई. रविंद्र कुमार सिंह के नेतृत्‍व में शुरू हुई राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा सफलतापूर्वक बिहार के 31 जिलों में संपन्‍न हो गई। इस यात्रा को लोगों का भरपूर समर्थन मिल रहा है। यात्रा का मकसद देश में समान शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, नागरिकता, कानून और किसानों के सवाल पर लोगों में जनजागृति पैदा करना है। उक्‍त बातें आज पटना के आईएमए हॉल में एक संवाददाता सम्‍मेलन के दौरान राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा समिति के संयोजक ई. रविंद्र कुमार सिंह ने कही। उन्‍होंने बताया कि समिति अब 21 जनवरी को पटना के रविंद्र भवन में राज्‍य स्‍तरीय कार्यकारिणी के गठन के लिए कार्यकर्ता सम्‍मेलन करेगी, जिसमें प्रदेश से लेकर जिला कमेटी का गठन किया जायेगा और जिला व कमिश्‍नरी वाइज प्रभार दिया जायेगा। वहीं, 25 फरवरी को पटना में ऐतिहासिक सवर्ण महारैली का आयोजन भी किया जायेगा, जिसमें हमने जनसत्ता दल (लो) अध्‍यक्ष सह यूपी के पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया और शेर सिंह राणा को भी आमंत्रित किया है।

संवाददाता सम्‍मेलन में ई. रविंद्र कुमार सिंह ने मोदी सरकार को सवर्णों आरक्षण के लिए धन्‍यवाद देते हुए कहा कि कम से कम भाजपा की सरकार ने संविधान में आर्थिक आधार पर आरक्षण के लिए सोचा तो। हालांकि हमें आरक्षण के तरीके पर एतराज है। हमारा स्‍पष्‍ट मानना है कि आरक्षण जाति या धर्म के आधार पर नहीं, बल्कि आर्थिक गरीबी के आधार पर मिले और उसका समय – सीमा तय हो। क्‍योंकि 1947 में कमजोर लोगों को मुख्‍य धारा से जोड़ने के लिए 10 साल के लिए आरक्षण दिया गया था, मगर बाद में यह राजनीतिक फायदे के लिए मुद्दा भर बनकर गया, इसलिए आरक्षण के बावजूद आज भी दलित – महादलित –आदिवासी भाई लोगों की हालत नहीं सुधरी है। इसका इस्‍तेमाल समाज के लिए लड़ने वालों सवर्णों के खिलाफ किया गया, जिसने देश में नफरत की खाई पैदा की है।

उन्होंने कहा कि चुनावी साल में वोट बैंक के लिए सवर्ण आरक्षण में 8 लाख तक इनकम वाले लोगों को गरीब माना गया है। जबकि इनकम टैक्‍स अदा करने का प्रावधान 3 लाख रूपये  पर है, जो लोगों को भ्रमित करने वाला है। सरकार पहले इसे परिभाषित करे। उन्होंने ये भी कहा कि 10% आरक्षण देकर अगर भाजपा सरकार यह सोचती है कि सवर्ण उन्हें वोट दे देंगे, तो यह उनकी गलत फहमी है। सवर्ण उन्हें तभी वोट देंगे, जब वे माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा एससी एसटी आरक्षण कानून को शत प्रतिशत मंजूरी देंगे।

संवाददाता सम्‍मेलन में राष्‍ट्रीय समान अधिकार यात्रा के सह संयोजक सुजीत कुमार, सुनील पांडेय, प्रवक्ता राजीव रंजन, विशाल सिंह परमार, ए एन कॉलेज छात्र संघ अध्यक्ष राजवीर सिंह, बच्चा सिंह, निखिल कुमार, राधेश्याम (पूर्व ए एन कॉलेज छात्र संघ अध्यक्ष), सोनू सिंह, राजन सिंह, हिमांशु सिंह इत्यादि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here