सेल्फी बाज़ पत्रकार हो जाएं सावधान! 

0
407
सुरक्षा की दृष्टि से सरकार ने 5KD (मुख्यमंत्री आवास) पर सेल्फी लेने पर प्रतिबंध लगा दिया है। लेकिन कथित पत्रकार तो अंधेर बरपा किये हैं। ये सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बने हैं। विधानसभा सत्र की कवरेज का पास बनवाकर विधानसभा सत्र के दौरान पत्रकारों द्वारा सेल्फी लेने/फोटो खिंचवाकर सोशल मीडिया में डालने वाले कथित पत्रकारों पर सरकार की तिरछी नज़र है। ये पत्रकार कवरेज करने जाते हैं या सैल्फी लेने या पिकनिक मनाने जाते हैं?  या वास्तव में कवरेज करने आये पत्रकारों की कवरेज में बाधा डालने या सीटे घेरने जाते है। इस हरकतों से सिर्फ़ पत्रकारिता की छवि ही धूमिल नहीं हो रही इन अति विशिष्ट स्थानों की गोपनीयता भंग करके सुरक्षा के खतरे भी पैदा हो रहे है।
लगातार विधानसभा और लोकभवन के चप्पे-चप्पे की तस्वीरे सोशल मीडिया पर वायरल करने वाले पत्रकारों के प्रवेश पर रोक लगने की संभावना जतायी जा रही है। बताया जाता है आईटी सेक्शन में ऐसी सैकड़ों तस्वीरें ट्रेस की गयीं हैं। इन तस्वीरों में शामिल पत्रकारों की प्रेस मान्यता खतरे में पड़ सकती है।
ज्ञातव्य हो कि कवरेज का पास बनवाकर सत्र के दौरान विधानसभा में प्रवेश लेने वाले वास्तविक पत्रकारों की विधानसभा कवरेज अखबारों और न्यूज चैनलों पर देखी जाती है। लेकिन जो कवरेज के बहाने से केवल विधानसभा सत्र में दाखिल होते हैं वो यहां अपना फोटो खिंचवाने और मंत्रियों/विधायकों के इर्द-गिर्द मंडराने या खाने पर टूटने के सिवा और करेगे भी क्या? इनकी कवरेज तो आप पढ़/देख नहीं सकते इसलिए ये अपनी तस्वीरों के साथ समाज के सामने खुद को पत्रकार साबित करने की दलील देते हैं। अब इन बातों पर सरकार संजीदगी से सख्त कदम उठाने की योजना बना रही है।
-नवेद शिकोह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here