शादी खोजने निकलिए तो समाज बाजा बजा देता है

0
1135
ग़ज़ल 
बेटी का पिता होना आदमी को राजा बना देता है 
शादी खोजने निकलिए तो समाज बाजा बजा देता है 
 
राजा बहुत हुए दुनिया में पर बेटी का पिता वह घायल राजा है
जिस के मुकुट पर हर कोई सवालों का पत्थर उछाल देता है 
हल कोई नहीं देता सब सवाल करते हैं जैसे प्रहार करते हैं  
बेटी का बाप है आख़िर हर किसी को सारा हिसाब देता है  
लड़के का बाप तो पैदाईशी  ख़ुदा है लड़की के पिता को 
यह समाज सर्कस की एक चलती फिरती लाश बना देता है 
लड़का चाहता है विश्व सुंदरी नयन नक्श तीखे नौकरी वाली
मां चाहती है घर की नौकरानी बेटे का बाप बाज़ार सजा देता है
नीलाम घर सजा हुआ है दुल्हों का फरमाईशों की चादर ओढ़े 
कौन कितनी ऊंची बोली लगा सकता है वह अंदाज़ा लगा लेता है 
 
विकास समानता बराबरी क़ानून ढकोसला है समाज दोगला है
लड़कियां कम हैं अनुपात में पर दाम लड़कों का बढ़ा देता है
पढ़ी लिखी हैं सुंदर हैं नौकरी वाली भी हुनर और सलीक़े से भरपूर
जहालत का मारा सड़ा समाज उन्हें औरत होने की सज़ा देता है
उम्र बढ़ाती हुई बेटियां ख़ामोश हैं  , पिता सिर झुकाए बैठे हैं
बेरहम वक्त उन के सुलगते अरमानों का ताजिया उठा देता है 
 
बात करते हुए वह आकाश देखता है , बोलता कम टटोलता ज़्यादा है
लड़के का बाप है उस की ऐंठ अकड़ और अहंकार यह बता देता है 
 
मसाला खाते शराब पीते भईया यहां वहां मुंह मारने में टॉपर हैं 
बेटे का बाप उसे हुंडी समझता है शादी के बाज़ार में भजा देता है 
सिर के बाल भी ग़ायब चेहरे पर अय्याशियों के भाव अटखेलियां करते
आंख से दारु महकती है बाप का जलवा उसे मंहगा दूल्हा बना देता है
जितने ऐब हैं  ज़माने में सभी से सुसज्जित है हर कोई जानता समझता
लेकिन बेटे का बाप अंधा होता है उसे सारे गुणों की खान बता देता है 
 
पंडित है , लग्न लिस्ट तमाम चोंचले भी बता तू कहां-कहां फिट होता है
आप को नहीं मालूम कोई बात नहीं इवेंट मैनेजर यह सब बता देता है  
संस्कार और रिश्ता नहीं अब  तड़क भड़क है इवेंट का तमाशा है
शादी के रिश्ते को यही इवेंट करोड़ों अरबों का व्यापार बना देता है  
आदमी किश्तों में सांस लेता है टूटता बिखरता है और मर जाता है
यह शादी नहीं फांसी की रस्म है जालिम समाज हर कदम बता देता है

 

दयानंद पांडेय. सरोकारनामा से साभार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here