इग्नू के 50 में से 42 कोर्सेज को ही मिली यूजीसी की मंजूरी

0
304

नई दिल्ली, 14 अगस्त 2018: बीते दिनों विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा जारी की गई दूरस्थ शिक्षा संस्थानों की सूची इग्नू की मुश्किलें बढ़ा दी है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ( इग्नू) द्वारा सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्सेज छोड़कर लगभग 50 नियमित कोर्स संचालित किए जाते हैं। लेकिन यूजीसी द्वारा जारी सूची में इग्नू के मात्र 42 कोर्स के ही नाम है, जिससे छात्रों के मन में भ्रम उत्पन्न हो गया है।

9 अगस्त को यूजीसी द्वारा दिए गए दिशा निर्देश के अनुसार यदि कोई दूरस्थ शिक्षा संस्थान अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद या कोर्स से संबंध मान्यता देने वाले संस्थान की स्वीकृति के बिना कोई कोर्स संचालित कर रहा है तो वह कोर्स मान्य नहीं होगा। इसी क्रम में यूजीसी ने दूरस्थ शिक्षण संस्थानों और वहां संचालित कोर्स की सूची भी जारी की है। इस सूची में इग्नू द्वारा संचालित एमसीए, बीएड सहित अन्य लोकप्रिय कोर्सेज के नाम नहीं है।

यूजीसी पर सवाल उठाते हुए इग्नू के प्रोफेसर कपिल कुमार ने कहा कि एमसीए 1990 से इग्नू में संचालित हो रहा है। बीएससी नर्सिंग एक प्रमुख कोर्स है, यह भी 1994 से संचालित किया जा रहा है जिसमें बड़ी संख्या में दाखिले होते हैं। इसके अलावा बैचलर्स ऑफ टूरिज्म 1994 से संचालित किया जा रहा है जिसे पढ़कर निकले छात्र आज कई जगहों पर नौकरी कर रहे हैं। यूजीसी का यह निर्णय सही नहीं है। इस मामले में इग्नू के कुलपति प्रो. नागेश्वर राव ने बताया कि हमारे सभी कोर्स संबंधित नियामक निकायों को द्वारा मान्यता प्राप्त है एवं संबंधित दस्तावेजों को यूजीसी को सौंप दिया गया है। इग्नू द्वारा प्रदान किए गए सभी प्रमाण पत्र एवं डिप्लोमा कार्यक्रम पूरी तरह वैध है और इन्हें आगे भी संचालित किया जाता रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here