सामूहिक कब्र उजागर होने के बाद म्यामां में हिंदुओं ने सुनायी खौफ की दास्तान

0
604

नई दिल्ली 27 सितम्बर। पश्चिमी म्यामां के हिंदू आबादी वाले गांव में रीका धर ने अपने पति, दो भाइयों और कई पडोसियों को नृशंसतापूर्वक मौत के घाट उतारे जाते और बाकी खौफजदा कुछ लोगों को हाथ पीछे बांधकर पहाडयिों में ले जाते हुए देखा ।
अपने दो बच्चों के साथ भागकर बांग्लादेश के भीतर हिंदू शिविर में पनाह लिए हुए 25 वर्षीया धर ने कहा, कत्ल करने के बाद, उन्होंने बडे बडे तीन गड्ढे खोदे और उनसबको उसमें फेंक दिया । उनके हाथ उस समय भी पीछे की ओर बंधे हुए थे और आंखों पर पट्टी बांध दी गयी थी ।
चश्मदीदों ने एजेंसी को बताया कि उत्तरी राखाइन प्रांत के खा मुंग सेक में हिंदुओं के छोटे से गांव में खूनखराबा हुआ जहां म्यामां प्रशासन ने रविवार से कब्रगाहो से 45 शवों को खोदकर निकाला है।
सेना का कहना है कि शवों की बरामदगी 25 अगस्त को रोहिंग्या मुसलमानों द्वारा ढाए गए कहर को बयां करता है । उस दिन आतंकवादियों ने पुलिस चौकियों पर छापा मारा और सांप्रदायिक रक्तपात को अंजाम दिया।
रोहिंग्या कैंपों के पास कॉक्स बाजार में हिंदुओं की छोटी सी बस्ती में 15 वर्षीया प्रोमिला शील ने कहा, पहाडयिों में ले जाने के बाद उन्होंने हर किसी को मौत के घाट उतार दिया । मैंने अपनी आंखों के सामने यह सब देखा ।