नुक्लिअर बटन दबाने की बात तो अंतरराष्ट्रीय समुदाय में पाप माना जाता है

0
572
डोनाल्ड ट्रम्प ने समझदार होने का दम्भ रखने वाली अमरीकी जनता को बता दिया है कि अमरीकी जनता भी निरे दर्जे की मूर्ख हो सकती है। ट्रम्प को राष्ट्रपति चुनकर।
कारण ये है कि अमरीका का इक़बाल पूरी दुनिया में गिरा है। अमरीका समर्थित इज़राइल की नई राजधानी पर तो यूरोप समेत पूरी दुनिया ने अमरीका के खिलाफ यूएन में वोट किया। अब जिस तरह ट्रम्प नार्थ कोरिया के शासक को nuclear button का मतलब समझा रहे हैं, उससे ऐसा लगता है कि ये परमाणु हथियार ना हुए कि गली मोहल्ले के लॉलीपॉप हो गए। जिसे जी में आया, खा लिया!!
Nuclear button दबाने की धमकी अगर अमरीकी राष्ट्रपति देता है, तो दुनिया मानती है कि वो कोई असाधारण परिस्थिति होगी। या तो एलियन का आक्रमण हुआ होगा, या फिर खुद अमरीका का वजूद मिटने वाला होगा। nuclear button दबाने की बात करने भी राजनीतिक हलकों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय में पाप माना जाता है और अगर अमरीकी राष्ट्रपति ट्वीट करके नार्थ कोरिया के शासक को इसकी धमकी देते हैं, उनके nuclear button का मज़ाक उड़ाते हैं, तो ये अविश्वसनीय और अकल्पनीय है।
अमरीका के पूरे इतिहास में कोई भी अमरीकी राष्ट्रपति इतना दोयम दर्जे का, इतना अविवेकशील,  इतना अदूरदर्शी, सोच का नहीं हुआ, जैसे ट्रम्प हैं। अगर ट्रम्प की nuclear button वाली गीदड़ भभकी को नार्थ कोरिया का तानाशाह सच मान ले तो घबराहट या गुस्से में वो अमरीका पर वाक़ई परमाणु हथियार वाली inter continental ballastic missiles दाग देगा। उसके बाद क्या होगा, इसकी कल्पना ना आप कर सकते हैं और ना हमारे टीभी स्टूडियो में बैठे कूपमण्डूक प्रोड्यूसर, जिनको nuclear fission और nuclear fusion का अंतर तक पता नहीं होगा लेकिन रोज़ रात को वो किम जोंग और तीसरे विश्व युद्ध पे आधे घण्टे का शो बना देते हैं।
ट्रम्प ने सिर्फ अमरीका को नहीं, पूरी दुनिया को निराश किया है। अमरीकी इतिहास में ट्रम्प का नाम हमेशा काले अक्षरों में धब्बे के तौर पे लिखा जायेगा और ये बात मैं बिना किसी पूर्वाग्रह या दुराग्रह के बोल रहा हूं। आप चाहें तो दुनियाभर के अखबारों को इस मामले में खंगाल सकते हैं, खासकर अमरीकी मीडिया को, जिसने ट्रम्प की धज्जियां उड़ा दी हैं।
नदीम के अख्तर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here