योग दिवस पर छह दशक पुराने योगिक ट्रीटमेण्ट्स में होंगे 18 से 21 तक होंगे विशिष्ट आयोजन

0
364

लखनऊ 11 जून। राजधानी के लगभग छह दशक पुराने और प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय
मार्ग स्थित योग केन्द्र योगिक ट्रीटमेण्ट्स में 18 जून को निःशुल्क
स्वास्थ्य शिविर का आयोजन कर रहा है। इसके बाद अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस
पर 21 जून को सुबह छह बजे से यहां ध्यान व योग का विशिष्ट सत्र व मधुमेह
शिविर चलेगा। साथ ही 18 से 21 जून तक यहां आने वाले को मुफ्त योग और
स्वास्थ्य सम्बंधी सलाह भी आर्गेनिक फूड के साथ मिलेगी।
केन्द्र की निदेशक अरुणा शर्मा ने केन्द्र की उपलब्धियों के साथ ही
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित विशिष्ट आयोजनों के बारे
में प्रेसवार्ता में पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि 18 को सुबह
सुबह छह बजे से कम्पलीट फ्री हैल्थ कैम्प शुरू हो जाएगा। 11 बजे तक चलने
वाले इस कैम्प में डा.उत्तम मुखर्जी लोगों को देखेंगे। 18 से
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस तक यहां आने वाले युवाओं सहित सभी व्यक्तियों को
ध्यान-योग, स्वास्थ्य व खानपान सम्बंधी मश्विरा उनकी जरूरत के हिसाब से
दिया जायेगा। योग दिवस पर विशिष्ट सत्र के साथ सुबह छह बजे से ही मधुमेह
शिविर लगेगा और आर्गेनिक फूड स्टाल पर सबको वांछित जानकारी ऐसे खा़द्य
पदार्थों से मिलने वाले लाभों के साथ दी जायेगी।
उन्होंने बताया कि योगिक ट्रीटमेण्ट्स में आने वालों की स्वास्थ्य से
जुड़ी विभिन्न समस्याओं और रोगों का इलाज योग विद्या द्वारा सफलतापूर्वक
किया जाता रहा है। इसके साथ ही समय-समय पर जनसामान्य को योग विद्या के
प्रति जागरूक करने के आयोजन भी होते हैं। योगिक ट्रीटमेण्ट्स में
योग-ध्यान पर चल रहे निरंतर शोध से श्वास, हृदय, मधुमेह, रक्तचाप व गुरदे
आदि शरीर के 50 से अधिक विकारों व व्याधियों में सकारात्मक प्रभाव डालने
वाले विभिन्न आसनों व क्रियाओं की सूची तैयार की। उन चयनित
आसनों-क्रियाओं का अभ्यास चिकित्सकों की सलाह और उनकी दवाओं साथ यहां
कराया जाता है। सकारात्मक परिणाम देखकर चिकित्सक धीरे-धीरे दवाएं कम करते
जाते हैं। उन्होंने बताया कि योगिक ट्रीटमेण्ट्स में हर व्यक्ति की उम्र,
कद, वजन, और रोगों के आधार पर आसन और क्रियाओं के साथ डायट चार्ट यानी
भोजन तालिका भी विशेषज्ञों द्वारा तैयार की जाती है। साथ ही पर्यवेक्षक
की निगरानी में ही 15 दिनों की प्रगति रिपोर्ट भी तैयार जाती है। केन्द्र
में ग़रीबों के लिए सेवाएं एकदम निःशुल्क है। श्रीमती अरुणा शर्मा ने
बताया कि केन्द्र में एक्यूप्रेशर पद्धति के भी विशेषज्ञ चिकित्सक सहित
25 कर्मी हैं। गर्मियों और सर्दियों की छृट्टियों में केन्द्र में बच्चों
के लिए 15-15 दिन के योग प्रशिक्षण शिविर चलते हैं। स्कूलों व सरकारी गैर
सरकारी संस्थाओं की मांग पर योग शिविरों का आयोजन भी योगिक ट्रीटमेण्ट्स
करता है।
उन्होंने बताया कि लोक कल्याण की भावना से 1960 में महर्षि कार्तिकेय के
शिष्य पं.रामकुमार शर्मा ने गोमती तट पर आज जहां हनुमान सेतु मंदिर है,
उसके निकट राजधानी के पहले योग केन्द्र की स्थापना की। अब तक इस केन्द्र
से लाखों लोग लाभान्वित हो चुके हैं। पं.रामकुमार शर्मा के देहावसान के
बाद उनके पुत्र सुधीर शर्मा की प्रेरणा से पुत्रवधू होने के नाते मैंने
संस्था का काम सम्भाला और आने वाले लोगों और समय की मांग के अनुरूप
केन्द्र को योगिक ट्रीटमेण्ट्स के तौर पर विकसित किया। पत्रकार वार्ता के
अवसर पर केन्द्र के अन्य विशेषज्ञ व समन्वयक सौमिल शर्मा भी उपस्थित थे।