चीन की युद्धनीति पर अमेरिका का खुलासा

0
1009

एलएसी यानी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति और सामान्य स्थिति के लिए चाहे जितने प्रयास किए जाएं लेकिन लगता है कि चीन को यह बात कतई पसंद आने वाली नहीं है। इसीलिए वह जान बूझकर ऐसी कार्रवाइयां करने में संलग्न है जो केवल तनाव फैलाएं तथा उकसावे की भावना को जोर दें। चूंकि उसने विस्तारवाद की नीति अपनाई हुई और इसके लिए वह किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है, इसलिए तनाव की परिस्थितियां बराबर सामने आती रहती हैं।

इधर, अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर भारत-चीन के बीच जारी गतिरोध पर बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि चीन ने एलएसी के पास साठ हजार सैनिक तैनात कर रखे हैं।

file photo

इधर चीन की युद्धनीति के जवाब में गृहमंत्री अमित शाह ने युद्ध की धमकी पर चीन को करारा जवाब देते हुए कहा कि अपनी देश की एक-एक इंच जमीन के लिए जागरूक हैं और इसको कोई छीन नहीं सकता.

मालूम हो कि चीन के राष्ट्रपति ने चीन की सेना को युद्ध के लिए तैयारियां करने के लिए कहा था. गृहमंत्री अमित शाह ने चीन के इस स्टैंड पर कहा कि भारतीय सेना हमेशा युद्ध के लिए तैयार है. वह किसी भी चुनौती का जवाब देने में सक्षम है.

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा कि पश्चिम ने दशकों तक चीन को अपने ऊपर हावी होने दिया। चीन को हमारी बौद्धिक संपदा को चुराने तथा उसके साथ जुड़ी लाखों नौकरियों को कब्जा करने का मौका दिया। भारत, ऑस्ट्रेलिया और जापान अपने देश में भी ऐसा होता देख रहे हैं।

इस तरह अमेरिका के विदेश मंत्री ने चीन की चालबाजियों को उठाया है जो वह विभिन्न देशों के साथ बहुत पहले से करता चला आ रहा है। इसका ताजा नमूना नेपाल में देखा जा सकता है जो चीन को अपना दोस्त मानता है लेकिन चीन उसके यहां भी दोरंगी चालें चल रहा है। इसी तरह बकौल पोंपियो, वुहान विषाणु जब आया और ऑस्ट्रेलिया ने जब इसकी जांच की बात उठाई तो हम जानते हैं कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने उन्हें भी डराया-धमकाया।

इस तरह इस क्षेत्र के अधिकांश देश चीन के ऐसे बर्ताव का सामना कर चुके हैं और इन देशों के लोग जानते हैं कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी उनके लिए खतरा है जिससे उनको निपटना ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here