छल्लों का एक दूसरे के करीब आना अब भी एक पहेली

0
683

वैज्ञानिकों ने धूमकेतुओं के एकजुट समूह को नया ग्रह बनाने का पता लगाया

वाशिंगटन 27 अक्टूबर। नासा के वैज्ञानिकों ने दूरबीन दूरबीन से सूर्य और प्लूटो के बीच की दूरी से कम से कम तीन गुना दूर धूमकेतुओं के एकजुट समूह को नया ग्रह बनाने का पता लगाया है। दरअसल, वैज्ञानिकों ने धूमकेतुओं के घने छल्लों को देखा है। अमेरिका स्थित जॉन होपकिंस यूनिवर्सिटी एप्लाइड फिजिक्स लैबोरेटरी में ग्रहीय वैज्ञानिक केरी लिजे के मुताबिक धूमकेतुओं के छल्ले से निकलने वाले प्रकाश का अनुमान लगाए जाने पर यह जाहिर हुआ है कि इनमें से हर एक पृथ्वी के आकार के कुछ ग्रहों का विकास कर रहा है।

पिछले कुछ दशकों में हवाई के इंफ्रारेड टेलीस्कोप फैसिलिटी और स्पित्जर स्पेस टेलीस्कोप जैसी नासा की शक्तिशाली वेधशालाओं का इस्तेमाल करते हुए वैज्ञानिकों ने धूमकेतु जैसे कई नये डिस्क सिस्टम पाए।

हालांकि, लिजे ने बताया कि इन छल्लों का एक दूसरे के करीब आना अब भी एक पहेली है। उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए कि आप आमतौर पर एक नयी प्रणाली में धूमकेतुओं के इस तरह से एक दूसरे के करीब आने को नहीं देखते हैं।हालांकि यह अनुमान लगाया जा रहा कि यह नए गृह बनने की शुरुआत हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here