कैसे बचेंगे आग की तपिश से तड़पते जानवर ?

0
590
  • यह पशु- पंछी प्रेमियों के लिए अत्यंत ही दुखद घड़ी है:
  • यह आग कब बुझेगी?

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी के जंगल मे आग लगे आज चार महीने से ज्यादा वक्त गुजर चूका है लेकिन आग बुझने का नाम नहीं ले रही है। आस्ट्रेलियन यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के इकोलॉजीस्ट द्वारा बताया गया कि इस आग से इंसानो के अलावा लगभग 50 करोड़ वन्य जीव-जंतु आग से झुलस कर खत्म हो चुके हैं, इसमें रेंगने वाले जीवों से लेकर पशु पक्षी एवं स्तन धारी जीव तक सभी जल कर भस्म हो गये। यह हादसा सम्पूर्ण दुनिया में आग से जल कर जंगल को हुये क्षतियों का स्तर इतना वृहद है कि जिसका अभी ठीक तरह से आंकलन कर पाना शायद संभव ही नही है।

सभी फोटो सोशल मीडिया (फेसबुक) से साभार

दुनिया के सभी देशों के जंगलों में लगी आग से हुये क्षति शायद ही इतनी बड़ी हुई हो अभी तक जंगल की आग से जलकर खत्म होने वाले जीव-जंतुओं की संख्या बहुत बड़ी है। इस जंगल की आग में संसार के दुर्लभ जीव – जंतुओं जो हम इंसानों की तरह बोल नही सकते हैं ऐसे प्राणियों के जिंदा आग से जलना बहुत ही दर्दनाक है। जरा सोच कर देखिए प्राण तो उन जीवों में भी है जो बोल नही सकते उनके दुःख दर्द को हम इंसानों का समझ पाना शायद बहुत मुश्किल हों! तनिक उन जीवों के मादाओं की सोचिए कि उन्हें कितना कष्ट हुआ होगा जिनके छोटे-छोटे नन्हें-मुन्नें बच्चे उनके ही सामने जलती आग में जल कर तड़प-तड़प कर उन्ही जीवों के सामने मर गये होंगे।

आग में इस तरह उन जीवों के इतने बड़े पैमाने में खत्म होने से जीवो का समूल नष्ट होना दुनियां का शायद पहला वाक्या है। जिसके लिए हम इंसान ही एक बार फिर से जिम्मेदार हैं। हालाँकि ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने बड़े पैमाने पर राहत कार्य चलाकर हज़ारों जानवरों को बचाया भी और अत्याधुनिक उपकरणों के माध्यम से कई जगहों पर आग पर काबू भी पाया है। लेकिन अब समझदारी इसी में है कि समस्त देश एक साथ एक मंच पर आएं और इस त्रासदी का त्वरित कोई समाधान निकालें जिससे हज़ारों और मासूम जानवरों को बचाकर मानवता का सबसे बड़ा उदाहरण पेश करें।


देश की समस्त सरकार से निवेदन:

आस्ट्रेलिया के जंगल में लगी भीषण आग से लगभग 500 प्रजातियों के 50 करोड़ से ज्यादा जीव-जन्तुओ की जलकर मौत हो गई। भारत के साथ देश की समस्त सरकार से निवेदन है कि इस वक्त आस्ट्रेलिया सरकार के साथ मिलकर इस भीषण आग बुझाने का प्रयास करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here