यूपी में सेवा योजना का प्लेटफॉर्म

0
3174

उत्तर प्रदेश सरकार कामगारों के सेवायोजन के प्रति कटिबद्ध है। इस दिशा में इस आपदा के दौर में भी अभूतपूर्व उपस्थिति दर्ज की है। इसके दृष्टिगत श्रम एवं सेवायोजन विभाग ने वर्तमान पोर्टल का विस्तार किया है। इसके साथ ही सेवा मित्र एप के सम्बन्ध में भी मुख्यमंत्री के समक्ष प्रस्तुतीकरण किया गया।

मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि इस पोर्टल एप से कामगारों के सेवायोजन में सहायता मिलेगी। इससे रोजगार व अन्य स्वतः रोजगार के अवसर सृजित होंगे। इतना ही नहीं इस पोर्टल को अधिक प्रभावी बनाने के उद्देश्य से इसका विस्तार किया जाएगा। इसमें कुशल अर्द्धकुशल कामगारों को आच्छादित किया जाएगा। उनको रोजगार की जानकारी उपलब्ध करायी जाएगी। इसके माध्यम से अभ्यर्थियों के पंजीकरण वनौकरियों की संख्या में वृद्धि कौशल विकास, कामगारों की निगरानी,ग्रेडिंग की व्यवस्था की जाएगी।

रोजगार के इच्छुक शिक्षित व्यक्तियों के लिए सेवायोजन प्लैटफाॅर्म होगा। जबकि कुशल अर्द्धकुशल अकुशल व्यक्तियों के लिए सेवामित्र प्लैटफाॅर्म होगा। सेवामित्र प्लैटफाॅर्म तथा एप तीन स्तरों पर क्रियाशील होगा। जिनमें शासकीय विभाग,उद्योग तथा उपभोक्ता सम्मिलित होंगे। कामगारों से सेवामित्र के माध्यम से उपभोक्ताओं द्वारा सीधा सम्पर्क भी किया जा सकेगा। सेवायोजन की सम्भावनाएं बढ़ाई जाएगी।

स्वरोजगार के अवसर के लिए सीएम युवा हब पोर्टल से भी इसका एकीकरण किया जाएगा। शिक्षा व कौशल विकास के लिए इसका एकीकरण कौशल विकास मिशन पोर्टल, प्राविधिक शिक्षा, व्यावसायिक शिक्षा, चिकित्सा विभाग,उच्च शिक्षा विभाग तथा माध्यमिक शिक्षा विभाग के पोर्टलों से किया जाएगा। पोर्टल पर कामगारों की प्रोफाइल तैयार की जाएगी। कामगारों की निगरानी के लिए टेलीकाॅलर की व्यवस्था की जाएगी।

मान्यता प्राप्त संस्थाओं द्वारा कामगारों की गे्रेडिंग करने की भी व्यवस्था की जाएगी। सेवायोजन हेतु वैश्विक अवसरों की खोज एवं चिन्हांकन भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने सेवायोजन पोर्टल और एप को रोजगारोन्मुखी और सेवायोजन के अवसर आसानी से उपलब्ध कराने का प्रभावी प्लेटफाॅर्म बनाने के निर्देश दिए। इसके माध्यम से बड़े पैमाने पर कामगारों को रोजगार उपलब्ध कराया जा सकेगा। इस पोर्टल एप के माध्यम से स्वरोजगार के लिए प्रयास करने वाले कामगारों को अपना शोरूम इत्यादि खोलने के लिए ऋण उपलब्ध कराने की भी व्यवस्था पोर्टल पर की जाए। बैंकों को भी इससे जोड़ा जाएगा। – डॉ दिलीप अग्निहोत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here