सफलता की कहानी : अब न बिजली बिल भरने का झंझट, न रात को जागने की परेशानी

0

इंदौर 02 नवंबर। हमारे लिए अब न तो बिजली का बिल भरने का झंझट रहा हैं और न ही रात्रि में जागने की परेशानी। हम तो अब पूरी तरह से निश्चिंत हो गये हैं और जब भी जरूरत होगी मोटर चालू की और फसल में पानी देना शुरू कर देंगे। इंदौर जिले की तहसील सांवेर के ग्राम राजौदा निवासी किसान श्री लाखन सिंह ने बताया कि यह सब मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना के कारण संभव हुआ हैं।

किसान लाखन सिंह ने बताया कि उनके लिए यह योजना वरदान से कम नहीं हैं। उन्होने बताया कि मेरे खेत पर पहले सिंचाई के लिए विद्युत पम्प की सुविधा थी किन्तु पम्प से ट्रांसफारमर की दूरी डेढ़ से पौने दो किलोमीटर होने के कारण वोल्टेज की समस्या बहुत रहती थी। इसके कारण वे पिछले कई वर्षो से सिंचाई को लेकर चिंतित रहते थे। उन्होने कई बार इस समस्या को क्षेत्र के कृषि विकास अधिकारी श्री पी.के.यादव को भी बताया था। श्री यादव ने किसान लाखन सिंह को मुख्यमंत्री सोलर पम्प योजना के बारे में जानकारी दी और बताया कि शासन इस योजना के तहत 85 प्रतिशत सबसिडी प्रदान करता हैं।

किसान श्री लाखन सिंह ने कृषि विकास अधिकारी की प्रेरणा पर इस योजना का लाभ उठाने का निर्णय लिया और मई 2017 एम.पी. ऑनलाइन कियोस्क में जाकर ऑनलाइन आवेदन किया और एन.ई.एफ.टी के माध्यम से योजना की ऐजेंसी म.प्र. उर्जा विकास निगम को पंजीयन शुल्क के रूप में 5 हजार रूपये तत्काल भुगतान कर दिये। उन्होने बताया कि बाद में उनको 67 हजार एक सौ रूपये और प्रदान करने पड़े। सोलर पम्प के लिए बाकी का खर्चा म.प्र. उर्जा विकास निगम भोपाल ने उठाया। किसान लाखन सिंह ने बताया कि उनके यह सपने हाल ही में तब पूरे हुए जब म.प्र. उर्जा विकास निगम द्वारा माह अक्टूबर 2017 में उनके खेत में सोलर पम्प स्थापित कर दिया गया हैं।

किसान लाखन सिंह ने बताया कि पहले जहां वे सोयाबीन व गेंहू की परम्परागत फसलें ही ले पाते थे किन्तु अब वे प्याज, लहसून, आलू, सब्जियों व फूलों की खेती भी करने की योजना बना रहें हैं। जिससे वे इन फसलों से अधिक मुनाफा कमा सके। किसान श्री लाखन सिंह ने मुख्यमंत्री जी को भी इस योजना को चालू करने के लिए दिल से साधुवाद दिया वहीं अन्य किसानों से भी इस योजना का लाभ उठाने का आग्रह किया हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here